facebook
 

पानी पीने का सही तरीका

पानी पीने का सही तरीका

BY Admin Date: 2020-05-02

What Happens When You Drink Water Wrong

जब हम जन्म लेते हैं तो हमारा शरीर 75% पानी से बना होता हैं लेकिन बढ़ती उम्र के साथ यह पानी बढ़ता जाता हैं एडल्ट होने के बाद एक सामानिये रूप से 60% होता हैं वहीं महिलाओं का शरीर 55% से बना होता हैं।

आखिर यह पानी हमारे शरीर में कहाँ होता हैं?

यह किडनी, लीवर, पेट, मूत्राशय और रीड की हड्डियों में स्पाइनल फ्लूइड की तरह जमा होता हैं हमारा दिल और दिमाग 75% पानी से होता हैं वहीं हमारे फेफड़ों में 83% पानी भरा होता हैं।

पूरे शरीर में सबसे ज्यादा पानी सेल्स यानी कोशिकाओं में होता हैं।

आपको यह जानकर हैरानी होगी, हमारी हड़्डियाँ पूरी तरह सख्त और सुखी दिखाई देती हैं उनके अंदर भी 31% पानी होता हैं इस तरह से कुल मिलाकर देखा जाए, हमारे शरीर के अंगों को अपना काम सही तरीके से करने के लिए पानी कि ज़रूरत पड़ती ही हैं और इसलिए एक व्यक्ति चाहे लम्बे समय तक खाना खाये बिना रेह ले लेकिन पानी पिये बिना एक दिन भी नही रह सकता, पानी हमारे शरीर के लिए इतना अधिक जरूरी होने की वजह से हमें इससे जुड़े नियमों का पालन करना आवश्यक हो जाता हैं। 

क्योंकि पानी पीने का तरिका, पानी पीने का समय और पानी पीने की मात्रा का हमारा शरीर पर अच्छा और बुरा दोनों असर पड़ता हैं।


 


इन सभी बातों का पता होना बहुत जरूरी हैं क्योंकि पानी से जुड़े किसी भी तरह के नियम में लापरवाही करने से हमारे शरीर को बहुत ज्यादा नुकसान होता हैं।

जोड़ों में दर्द, कब्ज, माइग्रेन, त्वचा पर दाग धब्बे और पिंपल्स होना लगातार बालों का झड़ना पेट और आँतडों से जुड़ी समस्या बने रहना, भोजन का ठीक तरह से पचना शरीर में कमज़ोरी और आलस रहना रात में नींद नही आना, किडनी से जुड़ी बीमारियां और त्वचा पर सूखापन और झुर्रियां होने के साथ साथ गैस यूरिक एसिड, मोटापा और शरीर में कमज़ोरी आने जैसी 40 से अधिक बीमारियां सिर्फ पानी से जुड़ी गलतियों के कारण आजकल इन समस्याओ से लोग केवल इसलिए परेशान हैं।

क्योंकि वह जाने अंजाने पानी से जुड़ी बातों पर ध्यान नही दे रहे होते हैं और शरीर में किसी भी तरह की बीमारी होने के ठीक ना होने की वजह कभी भी पता नही चलती जो व्यक्ति अपनी लाइफ में पानी को सही पीने की आदत डाल लेता हैं वह हर मौसम स्वस्थ और निरोगी बना रहता हैं लंबी उम्र तक आँखें, हड्डी, बाल और त्वचा जवान बनी रहती है।

पानी पीने से जुड़े हुए नियम वैसे तो आसान हैं लेकिन इनके फायदे अद्भुत हैं 

आइये जानते हैं हमें पानी कैसे और किस तरह पीना चाहिए और कितनी मात्रा में पीना चाहिए?
 
अलग अलग समस्याओं से केवल पानी के इस्तेमाल से कैसे छुटकारा पाया जा सकता हैं।

दिन भर में पानी पीने की मात्रा हर व्यक्ति के शरीर के आकार वज़न फिजिकल ईक्विटी और मौसम पर निर्भर करती हैं। हमारे शरीर से पेशाब, मेल, पसीने के जरिये पानी लगातार कम होता रहता हैं और साथ ही बोलने और सांस लेने की प्रक्रिया में शरीर का पानी भाप बनकर निकलता रहता हैं इस तरह से हम रोजाना दो तीन लीटर पानी शरीर से बाहर निकाल देते हैं।
 
इसलिए एक सामान्य पुरूष को दिन भर में 2.5 से लेकर 3.5 तक पानी पीने की सलाह दी जाती हैं और महिलाओ को दो से तीन लीटर पानी पीना शरीर के लिए अच्छा माना जाता हैं अगर आप रोजाना शाम या सुबह के टाइम वर्कआउट करते हैं तो उस स्तथी में पानी की मात्रा को बढ़ा देना चाहिये और खासकर गर्मिओँ में पि गयी मात्रा से थोड़ा ज्यादा पीना चाहिए।

ज्यादा पानी पीना वैसे तो हमारे सेहत के लिए अच्छा होता हैं लेकिन शरीर में पानी की ज़रूरत से ज्यादा अधिक हमारे किडनी के लिए हानिकारक हो सकता हैं।

आप दिन भर में पानी सही मात्रा में पी रहे हैं या नही इसे पेशाब यानी यूरिन के कलर सी पहचाना जा सकता हैं अगर आपके पेशाब का रंग पिला हैं तो यह उसकी निशानी हैं की आपका शरीर डिहाइडरटेड हैं और आपको पानी पीने की आवश्यकता हैं वहीं आपके यूरिन का कलर पानी की तरह साफ होता हैं तो यह दर्शाता हैं की आपकी बॉडी पुरी तरह हैद्रटेड हैं।

1-हमें पानी कब कब पीना चाहिए

इससे ज्यादा बात ध्यान देने वाली ये हैं कि पानी कब नही पीना चाहिए?

क्योंकि गलत समय पर पानी पीने से हमारे शरीर पर सबसे बुरा प्रभाव पड़ता हैं अच्छी सेहत और पानी से मिलने वाले पोषक तत्वों का पूरी तरह लाभ उठाने के लिए अपने दिन की शुरुआत चाय या कॉफी का जगह पानी से करते हैं चाहे प्यास लगी हो या नहीं रोजाना सुबह उठ कर एक से दो ग्लास पानी लगभग 500ml पानी रोज़ पिये खाली पेट पानी पीने से हमारे पेट और आंत की अच्छी तरह से सफाई होती हैं और साथ ही रात को मुँह की लार भी पेट तक पहुँच पाती हैं।

आयुर्वेद में सुबह सुबह बनने वाली लार को सोने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण बताई गई क्योंकि सुबह मुँह में बनने वाली लार में हमारे शरीर में आवश्यक सभी तरह के ऐनजाइम होते हैं जो की खाली पेट पानी पीने से हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं और हमारी सेहत पर अच्छा प्रभाव डालते हैं।

एक ग्लास में लगभग 200ml पानी आता हैं दिन भर में ढाई से लेकर तीन लीटर पानी पीने के लिए सुबह खाली पेट दो ग्लास यानी की 500ml एक ग्लास नाश्ते के एक घंटे बाद एक ग्लास दिन के खाना खाने के 40 मिनट बाद और पहले दो दो ग्लास शाम के एक घण्टे गप में एक ग्लास रात के खाना खाने के 40 मिनट पहले और बाद पिये।
 
इसके अलावा आप रोज़ जिम या वर्कआउट करते हैं या आपकी जॉब में बाहर घूमना चलना फिरना या शारीरिक काम शामिल हैं तो काम करके बीच बीच में आधा आधा करके लगभग दो ग्लास पानी ज़रूर पियें।
 

2-अब जानते हैं हमें पानी कब नही पीना चाहिए 

कभी भी खाना खाने के पहले और खाना खाने के बाद पानी ना पिये।

क्योंकि ऐसा करने से खाया हुआ भोजन पतला हो जाता हैं और खाना ठीक से पच नही पाता जब हम खाना खाते हैं तो खाना खाने के पहले साथ ही उस खाये हुए भोजन को पचाने के लिए हमारे पेट में डाईजेस्टिव जूस यानी की पाचक रस बनना शुरू हो जाते हैं पाचक रस अपनी गर्मी से पेट में मौजूद भोजन को पचाते हैं उसी तरह जिस तरह हम कच्चे खाने को गर्म करके पकाते हैं।

खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने से खाना ठीक तरह से पचने कि जगह सड़ने लगता हैं और गैस बनने लगती हैं।

अगर आपका दिन भर बैठने का काम हैं तो खाना खाने के तुरन्त बाद पानी पीने की वजह से बनी गैस हमारे शरीर के दूसरे अंगों में जाकर जमा हो सकती हैं जिसकी वजह से समय के साथ साथ पेट और जोड़ों में दर्द रहने की समस्या होने लगती हैं पेट का खाना नही पचने की वजह से जो सबसे बड़ी समस्या होती हैं।
 
वह हैं ऐसिडिटी और जो लोग खाना खाते ही पानी पी लेते हैं उन्हें लम्बे समय तक पेट में जलन और ऐसिडिटी की समस्या का सामना करना पड़ता हैं।

अगर लगातार पेट का खाना ठीक तरह से नही पचे इसके चलते शरीर में कौलैस्टैरौल भी बढ़ने लगता हैं और साथ ही यह शरीर में यूरिक एसिड को भी बढ़ता हैं
 इसलिए खाना खाने के तुरन्त बाद या पहले पानी नही पिये हमेशा खाना खाने के 40 मिनट से एक घंटे बाद ही पानी पिये।

अगर आप बहुत ज्यादा सुखा भोजन करते हैं तो खाना खाने के तुरन्त बाद दो से तीन गुट पानी पिया जा सकता हैं लेकिन फिर भी आपको भी अगर ज्यादा पानी पीने का मन करें तो पानी पीने की जगह छाछ, निंबु पानी या फलों का जूस पिया जा सकता हैं।

3-इसके साथ ही रात के भोजन के बाद पानी की जगह दूध का सेवन करें 

जब भी सुबह के समय खाली पेट पानी पीते हैं तो हमेशा इसे पेशाब करने के पहले ही पीले और ठीक इसी तरह दिन में पेशाब करने के तुरंत बाद कभी नही पिये जब हम पेशाब करते है तो हमारे शरीर के अंग जैसे सिकुड़ते हैं ऐसी स्तिथि में पानी पी लेने से अंदरुनी अंग और नसे कम सिकुड़ते होती हैं जिसकी वजह से धीरे धीरे पेशाब ना रोकने की वजह से और पानी ना पचने की समस्या पैदा होती हैं और पानी पीते ही बार बार पेशाब आने लगता हैं।

चाय या कॉफी जैसी गर्म चीजों के तुरन्त बाद ठण्डा पानी ना पिये क्योंकि ऐसा करने से हमारे गले और टॉन्सस् को नुकसान पहुँचता हैं ठीक इसी तरह ठंडी ताशी वाले फल या जिनमें पहले ही अधिक मात्रा में रस पाया जाता हैं उन्हें खाना खाने के बाद अवोइड करें क्योंकि पानी पी लेने से वह हमारे पेट में पूरी तरह पच नही पाते जिसकी वजह से सर्दी, खासी, पेट दर्द की संभावना बढ़ जाती हैं।

4-पानी हमेशा धीरे धीरे पीना चाहिए

ठीक उसी तरह चाय या कॉफी पीते हैं पानी पीट समय उसे थोड़ी देर के लिए मुँह में रखे और फिर निगले यह पानी पीने का सबसे बेहतर तरिका हैं।

जो लोग इस तरह की आदत डाल लेते हैं उनके शरीर में कभी भी किसी भी तरह की बीमारी नही आती क्योंकि थोड़ा थोड़ा पानी पीने से पानी के साथ मुँह की लार भी जाती हैं और यह तरिका सबसे ज्यादा सुबह के समय फ़ायदेमंद होता हैं।

कभी भी जल्दी जल्दी पानी नही पिये और एक ही बार में बहुत सारा पानी ना पिये क्योंकि हमारा शरीर की एक बार में केवल एक ग्लास यानी 250ml पानी पचाने की शमता होती हैं अगर आप ज्यादा पानी पीने के चक्कर में एक ही बार में जल्दी जल्दी एक ग्लास से ज्यादा पानी पी लेंगे तो ऐसा पिया गया पानी हमारे शरीर को पूरी तरह नही लगता और पेशाब के जरिये बहुत जल्दी निकल जाता है।

इसलिए हर 40 मिनिट के एक घंटे के अंतराल में एक ग्लास पानी सीप सीप करके पिये और ग्लास या बोतल में मुँह लगाकर पिये कभी भी गर्दन ऊपर करके जल्दी जल्दी खूब सारा पानी ना गटके और साथ ही पानी बैठकर ही पिये खड़े खड़े या चलते चलते पानी ना पिये क्योंकि ऐसा करने से पानी तेजी से प्रवेश करता हैं।

ऊपर से पीने कि वजह से ये अपने साथ ढेर सारी गैस को भी शरीर में भेजता हैं जिससे की अंदरुनी अंगों में दबाव और खिचाव पैदा होता हैं।

धीरे धीरे पानी और बैठकर पानी पीना और जल्दी जल्दी या खड़े रहकर पानी पीने में एक ही पानी का असर हमारे शरीर में अलग अलग तरीके से होता हैं।

धीरे धीरे मुँह लगाकर पानी पीने से यह हमारे शरीर का PH लैवल कंट्रोल रखता हैं और ये हमारे पेट के एसिड को करता हैं और इतना ही नही पानी के साथ साथ मुँह के लार को का शरीर के अंदर जाने से हमारा पाचन अच्छा रहता हैं और पेट में चर्बी जमा नही होती वहीं दूसरी तरफ आप खड़े रहकर या बैठे पानी पीने पीते हैं तो इससे हमारे अंदरुनी अंग और नसे कम होती हैं शरीर में गैस की मात्रा बढ़ती हैं जो की बाद में जोड़ो में दर्द पैदा करने लगती हैं।

5-चाहे कितनी भी ज्यादा गर्मी पड़ रही हो कभी भी फ्रिज का बहुत ज्यादा ठण्डा पानी ना पिये

हमेशा  सामान्ये तापमान का या हल्का ठण्डा पानी ही पिये कहीं लोगों को लगता हैं की फ्रिज का चिल्ड या बर्फीला पानी हमारे शरीर में ठण्डक पहुँचाता हैं

बल्कि ऐसा नही हैं बर्फ का पानी जब हमारे शरीर में जाता हैं तो शुरुआत में बहुत ठण्डा होता हैं बाद मे वह बहुत ज्यादा गर्म हो जाता हैं क्योंकि हमारे शरीर को ठण्डा करने की जगह गर्म करने लगता हैं।

ठण्डा पानी पीने के बहुत कम फायदे होते हैं जो लोग हमेशा ठण्डा पानी पीना पसंद करते हैं उनके शरीर में पानी के साथ साथ खाना भी ठीक तरह से नही पचता और साथ ही सर में दर्द, कब्ज, और अपच जैसी समस्या ज्यादा ठण्डा पानी पीने की वजह से हो जाती हैं।

इसलिए हमेशा ठण्डा पानी पीने की जगह सामान्य तापमान का ही पानी पिये या फिर हल्का गर्म करके पिये ठंड और बारिश के मौसम में गर्म पानी पानी पीने से हमारे शरीर को कहीं तरह के लाभ मिलते हैं क्योंकि गर्म पानी पीने से भोजन जल्दी पचता हैं और खासकर जिन लोगों को कब्ज और जोड़ों में दर्द रहता हैं उन्हें हमेशा हल्का गर्म पानी ही पीना चाहिए।

गर्म पानी पीना सर्दी जुकाम में बहुत लाभदायक होता हैं।

लेकिन जिन लोगों को ऐसिडिटी या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हैं वह लोग गर्म पानी का सेवन ना करें।

पानी से जुड़ी इतनी बातें सुनने में थोड़ी ज्यादा लगती हैं लेकिन विश्वास माने ये सभी साधारण नियम हैं की मात्र एक हफ्ते तक आप इन नियमों का पालन करते हैं तो धीरे धीरे आपको इन तरीको की आदत पड़ जायेगी और उसके बाद बिना ध्यान दिये ही आप सब कुछ नियमों के अनुसार करने लगेंगे।

पानी पीने का सही तरीका 

मुझे उम्मीद है की आपको हमारी यह पोस्ट पानी पीने का सही तरीका जरुर पसंद आई होगी. हमारी हमेशा से यही कोशिश रहती है की पढ़ने वाले को पानी पीने का सही तरीका के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दूसरी websites या internet में उस इस जानकारी के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं रहे। 

इससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह पर सारी जानकारी भी मिल जाये. यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी शंका हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तो इसके लिए आप निचे कमैंट्स में लिख सकते हैं। 

यदि आपको यह post पानी पीने का सही तरीका पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये। 

इस पोस्ट को इंग्लिश में पढ़े Right Way Of Drinking Water

What Happens When You Drink Water Wrong पानी पीने का सही तरीका पानी पीने का सही तरीका बताइए पानी पीने का सही तरीका हिंदी पानी पीने का सही तरीका कौन सा है पानी पीने का सही नियम पानी पीने का सही समय क्या है पानी पीने का सही उपाय how to drink water how to drink water