facebook
 

सबसे ज्यादा हानिकारक खाना

सबसे ज्यादा हानिकारक खाना

BY Admin Date: 2020-04-28

10 Food You Should Never Eat

हर इंसान की ईटिंग हैबिट्स यानी की खान पान से जुड़ी आदतें अलग-अलग होती हैं, कुछ लोग सेहतमंद रहने के नजरिये से खाते हैं तो कुछ लोग पेट भरने के लिए, कुछ लोग खाने पीने में परहेज करते है तो कुछ लोग स्वाद के पीछे ही भागते हैं आदतें चाहे जैसे भी हो रोजाना या कभी कभी खाये जाने वाली चीजों को लेकर जो हमारी सोच या धारना बनी रहती हैं उस पर हमारे आस पास के माहौल टेलीविज़न पर बताये जाने वाले ऐडवर्टाइजर का बहुत अधिक प्रभाव पड़ता हैं और जाने अनजाने म ऐसी चीजें खाना या पसंद करना शुरू कर देते हैं जो की हमारे सेहत के लिए बहुत हानिकारक होती हैं।

तेजी से वज़न बढ़ना अक्सर पेट से जुड़ी अलग अलग समस्या का होना, फ़िज़ूल के ख़याल चलते रहना ज्यादा आलस या थकान महसूस करना अचानक त्वचा पर इंफेक्शन या खुजली होना रात को ठीक से नींद नही आना तथा स्ट्रेस का होना, आँखों में कमज़ोरी आना, शरीर म शुगर, ब्लड प्रेशर, कौलैस्टैरौल बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों म तथा किडनी से संबंधित गंभीर बीमारियां केवल खान पान म अधिक सेवन करने से पैदा होती हैं

इसलिए आज के इस पोस्ट में हम जानगे दस ऐसी खाये जाने वाली आम चीजों के बारे में जो हमारे शरीर के लिए हानिकारक हैं और जिसका हमें सेवन कम से कम करना चाहिए

साथ ही हम ये भी जानगे की अगर आप इन चीजों को खाते हैं तो इन्हें किस तरह और कितनी मात्रा में खाना चाहिए

इस लिस्ट मै सबसे पहले है-

1-चावल

चावल अगर गर्म-गर्म दिन के समय खाये जाए तो इनसे हमें कोई नुकसान नही होता हैं लेकिन अक्सर लोगों की आदत होती हैं रात के बचे चावल अगले दिन खाने की रात के बचे चावल हमें जितने लगता हैं उससे कहीं ज्यादा हानिकारक हो सकते हैं क्योंकि चावल जब पकने के बाद ठंडे हो जाते हैं तो उन पर बैसिलियस् सरेस नामक जीवाणु फैलने लगता हैं, ठंडे चावल जितनी देर के लिए सामानिये तापमान पर रखे होते हैं, उतनी देर तक यह जीवाणु पूरी तरह चावल पर फैल कर उसे दूषित कर देता हैं और उन पर टोक्सिन यानी एक विषैला पदार्थ कर देता हैं फिर चावल को चाहे जितनी बार गर्म क्यों नही कर लिया जाए यह विषैला पर्दाथ चावल से बाहर नही निकलता और इस तरह के चावल को खाने पर फूड पॉइज़निंग होने के चांसस् अधिक होते हैं।

फूड पॉइज़न मैं उल्टी दस्त, पेट दर्द के साथ-साथ सिर दर्द और शरीर में ताक़त की कमी भी महसूस होती हैं इसलिए इस प्रॉब्लम से बचने के लिए कोशिश करें की चावल गर्म-गर्म ही खाये अगर आप ठंडे चावल दोबारा इस्तेमाल करना चाहते हैं तो उन्हें पकाने के बाद पूरी तरह ठंडा होने से पहले ही रेफ्रिजरेटर के अंदर टाइट ढँकन वाले डिब्बे या बर्तन मैं रखे 

लेकिन ऐसा सिर्फ घर म बनने वाले चावल के साथ ही करे बाहर बनने वाले चावल या उनसे बनी डिशेष का किसी भी तरह दोबारा इस्तेमाल ना करें।

2-चाय और कॉफ़ी 

चाय या कॉफी भी कहीं इस्थतियों मै हमारे शरीर के लिए हानिकारक हो सकती है खासकर तब जब इसका सेवन खाली पेट किया जाए हमारे पेट के खाली रहने का सबसे लंबा समय रात का समय होता है और लंबे समय तक खाली रहने की वजह से हमारे पेट मै एसिड की मात्रा अधिक बढ़ जाती है।

इसलिए सुबह उठते ही उस एसिड को शांत करने के लिए दो से तीन लिटिर पानी पीने की सलाह दी जाती है लेकिन जो लोग खाली पेट बिना कुछ खाये चाय या कॉफी पीते है उनके शरीर में यह एसिड दुगनी रफ्तार से बढ़ने लगती है।

ऐसे में एसीडिटी, कब्ज़, गैस, तवचा का काला पड़ना और बाल झड़ने जैसी समस्या समय के साथ साथ बढ़ना शुरू हो जाती है।

कैफिन की मात्रा अधिक होने के कारण धीरे-धीरे इसकी आदत पड़ जाती है फिर दिन का समय हो या शाम का खाली पेट चाय पीना सीधा अपने पेट को जलाने के समान होता है, चाय पीते समय हमारे स्वस्थ शरीर को किसी भी तरह का लाभ नही मिलता और जब इसमे चीनी भी मिला दी जाती है इससे हमारे शरीर पर होने वाले बुरे प्रभाव दस गुणा बढ़ जाते है जिससे की चाय या कॉफी का पिया गया केवल एक कप ही हड्डियों  से लेकर त्वचा तक पचास से भी अधिक बिमारियाँ खड़ी कर सकता है।

इसलिए चाय या कॉफी खाली पेट कभी नही पिये और कोशिश करे की इन्हे पूरी तरह बंद ही कर दे।

3-सोडा और कोल्डड्रिंक

 इसके अलावा सोडा और कोल्डड्रिंक शरीर के लिए बड़ी हनिकारक होती है

क्युंकि इनके अंदर जरुरत से ज्यादा शुगर और हनिकारक केमिकल पाए जाते है पोषक तत्व के नजरिये से देखा जाए तो इनके अंदर एक भी ऐसी चीज नही होती जिससे की हमारे शरीर को किसी भी तरह का फायदा हो सभी जानते है की इससे चर्बी और मोटापा बहुत तेजी से बढ़ती है लेकिन इससे बढ़ने वाले मोटापे की खास बात ये है की यह शरीर मैं अनचाही जगहों पर ज्यादा इकट्ठा होता है हाल ही मैं एक स्टडी के अनुसार यह पता चला है की जो लोग ज्यादा कोल्डड्रिंक पीते है वह कोल्डड्रिंक में पाए जाने वाले फास्फोरिक एसिड की वजह से उम्र से पहले ही बूढ़े हो जाते है और दिखने मै भी अपनी उम्र से पांच से आँठ साल तक बड़े दिखते है।

4-अचार और चटनी

 
रोजाना खाये जाने वाले भोजन के साथ आचार या चटनी खाये जाने पर खाने का स्वाद और बढ़ जाता है लेकिन इसमे आचार एक ऐसी चीज है जिसका सेवन संतुलित मात्रा में करना बहुत ज़रूरी है क्युंकि आचार वैसे तो हमारी 

सेहत के लिए फायदेमंद होता है लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन करने पर यह हमारे स्वास्थ्ये के लिए घातक साबित हो सकता है

ज्यादातर आचार बनाने मै बहुत सारे मसाले, तेल और सिरके का इस्तमाल होता है तेज़ मसाले और नमक की वजह से इसमे सोडियम की मात्रा भी अधिक होती है जो की सीधे हमारे ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल को बहुत तेजी से बढ़ाती है और क्युंकि यह बहुत अधिक खट्टा होता है ज्यादा आचार खाने वाले लोगों को अक्सर गले मैं दर्द, त्वचा पर एलर्जी या गांठे बनने के साथ साथ हाइपर एसिडिटी और शरीर पर सुजन आने की भी प्रॉब्लम हो सकती है।

इसलिए आचार कभी-कभी और कम मात्रा मै खाना चाहिए एक बार में आचार का सेवन कभी नही करना चाहिए।

5- हर तरह के भोजन व पकवान बनाने में तेल सबसे मुख्ये चीज होती है।


ऐसे में सवाल उठता है की कौनसा तेल हमारे स्वस्थ के लिय अच्छा है और कौनसा हानिकारक?

तेल की अगर बात की जाए तो सोयाबीन का तेल हमारे स्वास्थ्य के लिए सबसे हनिकारक होता है।
क्युंकि यह हमारे शरीर के पाचन तंत्र के बिल्कुल भी अनुकूल नही है और इसके अंदर फ़यटोस्ट्रोजन की मात्रा अधिक होती है सोयाबीन का तेल या सोयाबीन से बनी हर चीजो का सेवन करने से शरीर में फ़यटोस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ जाती है जो कि पुरुष महिलाओ दोनों के शरीर के हॉर्मोन पर भयंकर रूप से प्रभाव डालती है।

हार्मोन पर गड़बड़ी होने पर थाइरोइड, गुप्त रोग और महिलाओ की रिप्रोडक्टिव सिस्टम से जुड़ी हुई कहीं बीमारी होने के बहुत अधिक चांस होते है 
इसलिए खाना बनाने के लिए सोयाबीन ऑयल की जगह सरसों, नारियल या एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव ऑयल का ही इस्तमाल करें।

6-अंडा

 
जब भी सेहतमंद बनाने या सेहतमंद रहने की बात आती है तब सबसे पहले रोजाना अण्डे खाने की सलाह दि जाती है एक ऐसा व्यक्ति जो रोज़ कसरत करता है, जिसके शरीर से बहुत अधिक मेहनत करने वाले कार्य जुड़े हो केवल ऐसे लोगों को अण्डे खाने से नुकसान नही होता है।

हालांकि अण्डे खाने के बहुत फायदे है लेकिन होल एग यानी की पुरा अंडा खाने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल भी तेजी से बढ़ता है जो लोग रोजाना अंडा खाते है उनके शरीर मैं अंडा ना खाने वालों के मुकाबले कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है और हाई कोलेस्ट्रॉल हमारे हार्ट के लिए सबसे खतरनाक होता है।  इसलिए कई लोग अंडो को कच्चा खा जाते है।

दूध अंडा मास इस तरह की चीजें जो हमें जानवरों के ज़रिये मिलती हो उन्हें खाने से पहले पकाना बहुत ज़रूरी होता है क्युंकि इस तरह की चीजें खाने से साल्मोनेला पोइसनिंग होने के चांसस् अधिक है जिसमे की उल्टी दस्त होने के साथ साथ भयंकर रूप से पेट खराब और असहनीय पेट दर्द होने का खतरा रहता है।

इसलिए अंडो को कच्चा कभी ना खाये और पकाकर खाने से पहले ये चेक करले की अंडे अच्छी क्वालिटी के हो।

7-पापकोर्न


इसके अलावा पॉपकॉर्न जल्दी से बनने वाली एक ऐसी चीज चीज़ है जिसके हलके वज़न होने के कारण यह लगता है की यह हमारे लिए बिल्कुल भी हानिकारक नही होते लेकिन केवल घर पर बनाये जाने वाले पॉपकॉर्न को छोड़कर बाजार मै मिलने वाले हर तरह के पॉपकॉर्न चाहे वो बने बनाये हो या पैकेट में आने वाले रेडी एक्ट टू पॉपकॉर्न हो हमारे सेहत के लिए हानिकारक होते है।

क्युंकि इनमे नमक, चीनी, तेल और आर्टिफिशियल तेल की मात्रा अधिक होती है जो की हमारे शरीर की चर्बी को अधिक बढ़ा देती है और ज्यादा पॉपकॉर्न खाने से हृदय रोग होने के चांसस् अधिक होते है कोशिश करें के बाहर मिलने वाले पॉपकॉर्न कम से कम खाये।

8-आर्टिफीसियल कलर 


इसके अलावा ऐसी खाये जाने वाली चीजें जो आर्टिफिशियल कलर इस्तमाल की हो वह भी हमारे शरीर के लिए खतरनाक सिद्ध हो सकती है| खाये जाने वाली चीजों को दिखने में सुंदर और स्वादिष्ट बनाने के लिए आजकल फूड कलर का इस्तमाल अधिक बढ़ता जा रहा है।

बाजार में मिलने वाली ज्यादातर चीजें जैसे की केक, आइसक्रीम पैकेट में मिलने वाले जूस और ड्रिंक, बर्फ का गोला और तरह-तरह के चॉकलेट, टॉफी में आर्टिफिशियल कलर मिलाये जाते है और मीठे के अलावा पैकिंग में मिलने वाले स्नैक्स, नमकीन, मसाले में भी आर्टिफिशियल डाई का इन्हें लंबा और अच्छा दिखाने के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं।

 आर्टिफिशियल कलर किसी भी इंसान के पेट में जाने के लिए बिल्कुल भी बने नही होते है और ना ही सिर्फ पैकेट पर नेचुरल कलर फूड लिखा होने से इनके पुरी तरह प्राकर्तिक होने की कोई गारंटी होती है।

अलग-अलग कलर को बनाने के लिए अलग-अलग केमिकल का इस्तेमाल होता है और इसलिए हर कलर का हमारे सेहत और दिमाग पर अलग-अलग तरह से असर पड़ता है।

नीले कलर का डाई हमारे दिमाग पर बुरा असर डालता है, वहीं ब्लैड्डर यानी मुत्रशाई के लिए हनिकारक होता है लाल डाई हमारे खून को अशूद्ध करने के साथ साथ थाइरोइड के फंक्शन को भी खराब करता है और इसके अलावा पीला कलर अस्थमा को बढ़ावा देने के साथ साथ सूंघने की शक्ति कमज़ोर कर सकता है।

आर्टिफिशियल कलर का एक पूरी तरह सहतमंद शरीर पर चाहे इतना असर ना हो लेकिन बच्चों पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है इसलिए कोशिश करें की कलर वाली चीजों का कम से कम इस्तमाल करें आज की इस पोस्ट में वैसे तो सब साधारण है लेकिन हम चाहे तो इसे कम इस्तमाल करें अगर ऐसी सभी चीजों को बन्द कर दिया जाए तो हर इंसान इन खतरनाक बीमारियों से दूर रह सकता है।

सबसे ज्यादा हानिकारक खाना
मुझे उम्मीद है की आपको हमारी यह पोस्ट सबसे ज्यादा हानिकारक खाना जरुर पसंद आई होगी. हमारी हमेशा से यही कोशिश रहती है की पढ़ने वाले को सबसे ज्यादा हानिकारक खाना के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दूसरी websites या internet में उस इस जानकारी के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं रहे। 

इससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह पर सारी जानकारी भी मिल जाये. यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी शंका हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तो इसके लिए आप निचे कमैंट्स में लिख सकते हैं। 

यदि आपको यह post सबसे ज्यादा हानिकारक खाना पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये। 


इस पोस्ट को इंग्लिश में पढ़े The 10 Most Harmful Foods

10 Food You Should Never EatFood You Should AvoidFood You Should Never Eatसबसे ज्यादा हानिकारक खानाharmful food for kidneyharmful food for liverharmful food for kidney stonemost harmful food additivesharmful baby foodfast food harmful effectsspicy food harmful effectsharmful food for thyroid harmful food for the brainharmful health foodharmful food for the human bodyharmful food for high blood pressureharmful food for the heartharmful food for hamstersharmful food for hairharmful food in thyroidharmful food in pilesharmful food ingredientsharmful food itemsharmful food ingredients to avoid